You are here

मोदी और योगी के होते हुए राम मंदिर नही बनने का क़ानूनी और व्यवहारिक कारण भी जान लीजिए!

आखिर देश में इतने बड़े जनमानस की भावनाओ और राम के प्रति इतनी आस्था होने के कारन भी आज देश में राम मंदिर क्यों नहीं बन पा रहा है …

आज केंद्र में बेठी मोदी सरकारराम मंदिर बनाने के मुद्दे पर ही पूर्ण बहुमत की सरकार बन पाई है तो आखिर अब मोदीजी राम मंदिर क्यों नहीं बना पा रहे है ,, सरकार तो जो चाहे वो कर सकती है तो फिर राम मंदिर क्यों नहीं — आइये जानते हे इसका संवेधानिक और व्यावहारिक कारण-

आज भारत देश संविधान के आधार पर चल रहा है और देश के लोगो में आज कोर्ट और कानून पर ही भरोसा है ,,और कोर्ट के फेसले का पूरा देश सम्मान करता है और संविधान में लिखित एक लाइन के कारन आज मोदी जी राम मंदिर नही बना पा रहे है और इसके लिए वो कानून नहीं पा रहे है वो लाइन ये है की :- जब तक किसी विषय पर कोर्ट में उसका प्रकरण चल रहा हो अथवा उसपर कोर्ट का कोई निर्णय ना आया हो तो कोर्टमें लंबित प्रकरण पर सरकार कानून या बिल संसद में नहीं ला सकती है अन्यथा ये कोर्ट और संविधान का अपमान होगा और लोगो का कोर्ट पर से भरोसा कम हो जायेगा

जिस तरह हम उदाहरन के तोर पर देखे तो तिन तलाक पर जब तक कोर्ट का निर्णय नहीं आया तब तक सरकार ने कुछ नही किया ..जेसे ही कोर्ट का फेसला आया फिर सरकार ने कानून बनाया और संसद में से कानून को पास कराया पर राज्यसभा में सरकार को बहुमत के लिए १२७ संख्या चाहिए जों की अभी सरकार के पास ८२ है तो वहा पर कांग्रेस ने बिल का विरोध् करके बिल को पास नहीं होने दिया तो आज वो कानून ट्रिपल तलाक लागू नहीं हो पाया !

तो जो कांग्रेस के पूर्व कानून मंत्री ये कहते हे कपिल सिब्बल जी की राम मंदिर पर २०१९ के पहले सुनवाई नहीं होनी चाहिए वो , तो अगर मोदी जी संविधान के खिलाफ जाकर अगर राम मंदिर पर बिल ले भी आते हे तो लोकसभा में तो बिल पास हो ही जायेगा पर क्या राज्यसभा में कांग्रेस बिल के पक्ष में खड़ी होगी रो राम मंदिर के लिए वोट करेगी ?”’

जो राम का नाम लेने से भी डरते है जो परिवार कहता था में एक्सीडेंटल हिन्दू हु वो परिवार राम के पक्ष में केसे खड़ा रहेगा ,,,

अब देश में २०१४ के बाद देश में राम मंदिर का माहोल बना हे और आज देश को ये विश्वास भी हो गया हे की राम मंदिर तो बनके ही रहेगा ,,, इसे में जो राजेनेता राम के पक्ष में खड़े है उनके सिवा किसी और पर भरोसा किया तो निश्चित ही दोखा मिलेगा …..

अब ये आपको चिंतन करना हे की अब अप किसके पक्ष में खड़े होंगे और २०१९ में किसे वोट करेंगे राम मंदिर के लिए ..इसपर आपको विचार करना चाहिए

Leave a Reply

Top
shares